Latest

10/recent/ticker-posts

लिलाही जलप्रपात, मोहखेड़, छिंदवाड़ा (Lilahi Waterfall, Mohkhed, Chhindwara)

लिलाही जलप्रपात, छिंदवाड़ा जिले का प्रसिद्ध जलप्रपात है। 

लिलाही जलप्रपात, मोहखेड़ विकासखंड के देवगढ़ के समीप, देवगढ़ से पांदुर्णा जाने वाले रास्ते के पास स्थित ग्राम लिलाही व जामलापानी के पास नारायण घाट के निकट है। 

जामलापानी ग्राम से थोड़ा आगे बांयीं ओर जंगल रास्ते पर, लगभग 4 किलोमीटर कच्चे रास्ते पर जाने के उपरांत, कन्हान नदी पर लिलाही धुआंधार जलप्रपात का नयनाभिराम दृश्य दिखने लगता है। इस कच्चे रास्ते पर मोटरसाइकल व कार आदि से पहुंचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें-
✓ कुकड़ी खापा जलप्रपात, छिन्दवाड़ा

इस लिलाही जलप्रपात तक पहुंचने के पूर्व, देवगढ़ में देवगढ़ का किला तथा देवगढ़ की प्रसिद्ध बावलियों का समूह भी दर्शनीय है। 

देवगढ़ का किला पर्यटन का एक महत्वपूर्ण पड़ाव स्थल भी है।

800 कुंए और 900 बावलियों के लिए प्रसिद्ध देवगढ़ में यदि आपने कुछ महत्वपूर्ण बावलियों जैसे चोर बावली, आदि को, यदि नहीं देखा तो आपका लिलाही जलप्रपात का यह पर्यटन टूर अधूरा ही कहलाएगा।
               
जामलापानी के आगे व लिलाही ग्राम पहले  कन्हान नदी जंगली पहाड़ी रास्तों से बहती हुई नयनाभिराम दृश्य बनाती हुई एक जलप्रपात का निर्माण करती है। जिसे लिलाही जलप्रपात के नाम से जाना जाता है।

देवगढ़ से लिलाही जलप्रपात की दूरी लगभग 12 km है। जिला मुख्यालय छिन्दवाड़ा से 55 km दूर स्थित लिलाही जलप्रपात एक आकर्षक पर्यटन स्थल है। 

नागपुर से लिलाही जलप्रपात की दूरी 132 Km (व्हाया -मोहखेड़, देवगढ़ होते हुए) है। छिंदवाड़ा-नागपुर सड़क मार्ग पर 23 Km पर मोहखेड़ तिगड्डा है। यहां से मोहखेड़ 5 किलोमीटर तथा देवगढ़ 20 किलोमीटर दूर स्थित है।

पांढुर्णा से लिलाही जलप्रपात की दूरी 70 किलोमीटर है।
 
लिलाही ग्राम के समीप बनने वाला कन्हान नदी का यह जलप्रपात धुआंधार जलप्रपात के रूप में जाना जाता है। जहां कन्हान नदी का बहुत चौड़ा पाट है। और इस पूरे चौड़े विस्तारित पाट में बड़े-बड़े शिलाखंड हैं। जब इन शिलाखंडों से होकर नदी का जल प्रवाहित होता है। तो वहां जगह जगह धुआंधार जैसे प्रवाह उत्पन्न करता है। 

कुछ कुछ जगह धुंआधार जलप्रपात की यह ऊंचाई 20 फीट, तो कुछ जगह 15 फीट, कुछ जगह 10 फीट, तो कहीं 5 फीट है। इस प्रकार नदी का तेज प्रवाह में बहती हुई जलधारा एक मिनी धुआंधार के रूप में मनमोहक दृश्य उत्पन्न निकलती है।

इस लिलाही धुआंधार जलप्रपात को देखने के लिए प्रतिदिन लगभग 100 पर्यटक यहां पहुंचते हैं। शासन की ओर से इस स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है।

लिलाही जलप्रपात YouTube :



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ