Latest

10/recent/ticker-posts

कालीबाड़ी मंदिर, धरमटेकड़ी, जिला छिंदवाड़ा | Kalibaadi Temple, Dharam Tekri, Chhindwara, Madhya Pradesh

नेचर वॉक (Nature Walk) के लिए प्रसिद्ध कालीबाड़ी मंदिर, धरमटेकड़ी, जिला छिंदवाड़ा | Kalibaadi Temple, Dharam Tekri, Chhindwara, Madhya Pradesh में स्थित है।

छिंदवाड़ा नगर की सर्वाधिक ऊंचाई पर धरमटेकडी़ है और यहां भव्य कालीबाड़ी मंदिर मां काली को समर्पित व सुशोभित है। इस मंदिर स्थल से सूर्योदय व सूर्यास्त के समय संपूर्ण छिंदवाड़ा नगर का नयनाभिराम दृश्य देखना मन मोह लेता है। 

दिव्य शक्ति रूपा मां काली की प्रतिमा के दर्शन मात्र से ही शक्ति की असीम अनुभूति होती है। मन श्रद्धा और नवीन चेतना से भर जाता है। वर्तमान में काली बाड़ी मंदिर धीरे-धीरे प्रसिद्धि पा रहा है।

यह भी पढ़ें-

मां काली के पूजन के विशेष दिनों में जैसे मंगलवार और शनिवार को श्रद्धालु अधिक संख्या में दर्शन के लिए मंदिर में आते हैं। रविवार एवं अन्य अवकाश के दिवस में भी श्रद्धालु दर्शनार्थियों की संख्या अधिक हो जाती है।

धरमटेकड़ी स्थित कालीबाड़ी मंदिर का निर्माण छिंदवाड़ा के समस्त बंगाली समाज द्वारा जन सहयोग से करवाया गया है।

कालीबाड़ी समिति धरमटेकड़ी का गठन कर कालीबाड़ी मंदिर के भव्य मंदिर निर्माण के लिए सन् 2001 में 12,159 वर्ग फीट भूमि क्रय किया गया। जिस पर मंदिर निर्माण कर भूमि पूजन किया गया।

मंदिर निर्माण उपरांत मंदिर के गुंबद निर्माण एवं कलश स्थापना के पश्चात 24 फरवरी 2012 को उड़ीसा से लाई गई मां काली की मूर्ति एवं शंकर जी की मूर्ति की विधिवत पूजन कर स्थापना की गई। 

कालीबाड़ी मंदिर में सुबह एवं शाम 7:30 बजे मां काली की आरती होती है। आरती में बंगाली पद्धति अनुसार दुर्गा पूजा के बजने वाले ढाक और कांसा की ध्वनि एक अलग ही आकर्षण उत्पन्न करती है। व दूरस्थ क्षेत्रों में भी ध्वनि सुनाई देती है।

प्रतिवर्ष की दोनों नवरात्रों में यहां श्रद्धालुओं की भीड़ बनी रही है। काली बाड़ी मंदिर का संचालन एवं वर्ष पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का संचालन कालीबाड़ी समिति धरमटेकड़ी द्वारा किया जाता है।

वर्तमान में कालीबाड़ी मंदिर धरमटेकड़ी छिंदवाड़ा शहर का आकर्षण का केंद्र बन गया है।

Direction To Kalibaadi Temple, Dharam Tekri, Chhindwara, Madhya Pradesh | कालीबाड़ी मंदिर, धरमटेकड़ी, जिला छिंदवाड़ा, मध्यप्रदेश -


यह भी पढ़ें-

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ